Friday, December 31, 2010

नया साल आया....


चलो एक और नया साल आया
सिर्फ नयी कीमतों का माल लाया

समझ लो इस समय की धार को
समझ लो इस महंगाई के मार को
सब्जी के दाम में एक उछाल लाया
चलो एक और नया साल आया

इस मार से हम पल पल मरते हैं
चलो अब कुछ नया सोचा करते हैं
बस कम हो दाम, जो भूचाल आया
चलो एक और नया साल आया

दुआ करें और कीमतें ना बढे 
शेर मार्केट हर रोज उप्पर चढ़े  
नया समय, नया सुर ताल लाया 
चलो एक और नया साल आया

मुबारक हो तुम्हे यह नया पल 
दुआ रहें, खुश रहो आज और कल
यह पल भी एक नयी चाल लाया 
चलो एक और नया साल आया

Saturday, October 23, 2010

शुभ हो दिवाली...


आज जरुरत हैं एक "राम" की
मनानी  हैं दिवाली उस काम की

हर जगह "रावण" मिलते है,
"सीता" को देखकर हिलते हैं
रक्षा करे "सीता" के नाम की
आज जरुरत हैं एक "राम" की

हर जगह फैले हैं यह असुर
बेकाबू दौड़ रहे हैं होकर बेसुर
जरुरत हैं असूर को लगाम  की
आज जरुरत हैं एक "राम" की

गली गली में अँधेरे का  शोर हैं
रौशनी को बनाना चितचोर हैं
राह दिखानी हैं एक अंजाम की
आज जरुरत हैं एक "राम" की

मन के हर घर में हो उजाला
हर घर में हो दीपक की माला
तलाश हैं एक घनी शाम की
आज जरुरत हैं एक "राम" की

मन में लेकर प्रकाश की आशा
दीपक जल उठते हैं हर दिशा
शुभ हो दिवाली इस आम की
आज जरुरत हैं एक "राम" की

Saturday, September 25, 2010

हरे और सूखे पत्ते

इंसान का जीवन भी हरे और सूखे पत्तों की तरह हैं. जब सबकुछ हरा होता हैं सब लोग आपके साथ होते हैं यानि की सुख में सब आपके साथ होते हैं लेकिन दुःख में कोई आपके साथ नहीं होता |



 
पेड़ के निचे  गिरे हुए पत्तों पे  झुककर
हसतें हैं हरे पत्ते, सुखे पत्तों को देखकर 

शायद  उन्हें पता  नहीं  उस दिन का
अंदाज नहीं कर पाते हैं उस क्षण का
एक दिन निचे गिरेंगे वो भी सुखकर
हसतें हैं  हरे पत्ते, सुखे पत्तों को देखकर
 
हवा के साथ मिलकर मस्ती में जीते हैं
जहर जिंदगी का मस्ती में वो पीते हैं
जैसा की बैठे हैं  झूले में मजे ले लेकर
हसतें हैं  हरे पत्ते, सुखे पत्तों को देखकर



यहाँ रोने वाले का ना कोई साथ देता
उन्हें अपने साथ साथ कोई नहीं लेता
हवा भी उड़ा देती उन्हेंही  लात मारकर
हसतें हैं  हरे पत्ते, सुखे पत्तों को देखकर

बारिश का पानी भी उन्हेंही नहलाता हैं
हसने वालें  दिल को ही बहलाता हैं
और इन्हें ले जाता हैं धक्का दे देकर
हसतें वो हरे पत्ते, सुखे पत्तों को देखकर


उन्हें पता नहीं, सूरज की  धार का
उन्हें पता नहीं, रौशनी की  मार का 
यही हाल होगा एक दिन निचे गिरकर
हसतें वो हरे पत्ते, सुखे पत्तों को देखकर 

Thursday, September 23, 2010

कॉमन का कॉमन वेल्थ

मैं "कॉमन" हूँ इसलिए सब कुछ सहता हूँ
इस लिए तो आसुओं  के पानी में बहता हूँ

हाल अपना किसे कहे, अलग हैं उनकी चाल   
नेता ल़ोग मस्त हैं लूटकर "कॉमन" का  माल
मैं तुम्हे बार बार पुकार कर यही कहता हूँ
मैं "कॉमन" हूँ इसलिए सब कुछ सहता हूँ

देश की इज्जत को भी दांव पर लगाते हैं
"कॉमन वेल्थ"  से ही " कॉमन" को ठगातें हैं
"सीमेन्ट"की पुल की तरह मैं भी यहाँ ढहता हूँ
मैं "कॉमन" हूँ इसलिए सब कुछ सहता हूँ

ल़ोग यहाँ  रोटी की तलाश में रह जाते हैं
लेकिन नेता  ल़ोग यहाँ सब कुछ खाते हैं
"कॉमन वेल्थ" की चिंता दिन रात करता हूँ
मैं "कॉमन" हूँ इसलिए सब कुछ सहता हूँ

हर शहर का हाल भी यहाँ  ही बेहाल हैं
हर सडक में गड्डो की एक नई मिसाल हैं
क्या होगा इस देश का, सोचकर डरता हूँ
मैं "कॉमन" हूँ इसलिए सब कुछ सहता हूँ

सोचता हूँ, मुझे भी चुनाव का वक्त आयेगा
"कॉमन" क्या करेगा तु सोचता रह जाएगा
तुझे मारना हैं इस लिए आज मैं मरता हूँ
मैं "कॉमन" हूँ इसलिए सब कुछ सहता हूँ

Tuesday, August 24, 2010

स्वंयरक्षा ही सुरक्षा

बंगलूरु एक बहुत ही तेजीसे बढ़ने वाले शहरों की दौड़ में शामिल हैं। आजसे दस साल पहले हैदराबाद के पीछे था। लेकिन अब जनगणना के अधार पे यह भारत का तीसरा बड़ा शहर माना जाता हैं। यहाँ हर रोज नए माँल और नए टावर्स खड़े होते हैं। हर टावर्स में कई ओफिसेस होते हैं। जैसा की कालटर्न टावर जो पुराने एअरपोर्ट रोड पे आता हैं। २३/०२/१० मंगलवार शाम चार बजे के आसपास जो हादसे ने एक नया मोड़ लीया था और हमारी सुरक्षा को ही कटघरे में खडा किया था। जहाँ हमारे जीवन की गाड़ी चलाने के लिए रोज आफिस जाते हैं लेकिन वहाँ हम कितने सुरक्षित हैं? क्या बहुमंजिला इमारतों में ऐसी कोई सुविधा नहीं हैं की हम आपातकालीन परिस्थिति में बहार आ सके। अगर सुविधा हैं तो लोगों को सातवी मजिल से कूद कर जान देने की नौबत क्यूँ आयी? और इस हादसे में नौ लोग मारें गए थे और तिस लोगों की हालत गंभीर थी और कई ल़ोग अस्पताल में दाखिल हुए थे। ना जाने ऐसे कई ल़ोग होंगे जो अपने बच्चों को या अपने चाहने वालों को यह बताकर आये होंगे की शाम को ऑफिस से घर जल्दी आया करूँगा । लेकीन उनकी शाम कही रुक गई थी। चाहने वालोंके सपने भी चूर चूर हो गए थे। क्या इस हादसे के लियें कौन हैं जिम्मेदार ? यह सवाल भी एक पहेली से कम नहीं।

तक़रीबन दस साल पहले की बात हैं। एल्क्ट्रिक शार्ट सर्किट की वजह से हमारे कंपनी में आग लगी थी और वह आग कुछ केमिकल की वजह से ज्यदाही फ़ैल गयी थी। सभी ल़ोग इधर से उधर भाग रहे थे क्यूंकि वहाँ इतना धुवा फैला था की कुछ भी ठीक तरह से दिखाई नहीं दे रहा था और पुरा प्यासेज धुवे से भर गया था जिससे साँस लेने में दिक्कत आ रही थी। आग के उस पार चार ल़ोग फसे थे। हमारा मुख्य उद्देश यह था की उन चार लोगोंको बचाना। मैंने बड़े ही सहास के साथ एक Fire extinguisher उठाया और बढती हुयी आग को काबू किया और हमारे कुछ सथियोने खिडकियोंके तोड़ कर धुवे को बहाव को कम किया था। उन चार लोगोंको बचा लिया था। यह सब होने के बाद fire brigade के कर्मचारी आयें और बुझे हुए आग पर पानी डालकर चले गए। यह एक हकीकत हैं जिस अनुभव से मैं गुजर चुका था। बाद में मुझे कंपनी से एक अवार्ड भी दिया गया था। यह बताना मैं इसलिए जरुरी हैं की आग लगने के बाद अन्दर हालात किस तरह बेकाबू हो जाते हैं और उस हालात में हम क्या कर सकते हैं।

इस घटना के मद्देनज़र कुछ सुरक्षा के उपाय बताना चाहता हूँ।
१) अपातकालीन दरवाजे या खिड़की पर ताला ना लगाएं और संकेतपत्र जरुर लगाए उस संकेतपत्र पर emergency exist लिखा होना चाहिए सभी संकेतपत्र लाल या हरे रंग में होने चाहियें।
२) आपात कालीन द्वार की ओर जाने के लिया दिशा दर्शक फलक जरुर लगाएं।
३) अपघात या आगजनी की घटनासे लोगोंको अवगत करने के लिए Fire siren लगायें। आपतकालीन स्थिति में ल़ोग इकट्ठा होने के लिए एक निश्चित जगह होनी चाहिए। आपातकालीन स्थिति में कैसे बहार आयें इसका प्रशिक्षण देना चाहियें।
४) कौन से समय में कौनसा Fire exitingusher का इस्तमाल करना चाहिए क्यूंकि बिजली से लगी आग पर पानी वाला Fire exitingusher नहीं चलाना चाहियें और इसका प्रशिक्षण नियमित अंतराल से देना चाहियें।
५) सुरक्षा के लिए एक समिति बनानी चाहियें जो इसका नियमीत अंतराल में प्रशिक्षण दे सके। और सभी नियमित अन्तराल से लेखापरिक्षण करना जरुरी हैं।

जिंदगी के सफ़र को ज़िंदा रखने के लीय हम काम करते हैं, जहाँ हम काम करते, उसेही हमें कर्मभूमि समझ कर कुछ सुरक्षा उपयों को ध्यान में रखे और अपनी सुरक्षा स्वयं करे। स्वंयरक्षा ही सुरक्षा हैं।

Friday, July 30, 2010

अन्दर के तीन बन्दर....

नेता लोग ऐसा क्यूँ करते हैं ?
संसद भवन सर पे लेकर नाचते हैं
कभी कूदते हैं,
चिल्लाते हैं,
"बन्दर" की तरह उछलते हैं
कभी तोड़ फोड़ तो कभी माइक उठाकर
मारने दौड़ते,
कभी अपनेही साथियों को कुचलते हैं

कभी कभी तो लगता हैं
क्या  यही लोग देश को चलाते हैं ?
क्या होगा  इस पद के गरिमा का
सन्मान या,
अपमान,
क्यूँ इस  पद के गरिमा को रुलाते हैं ?
जब "गांधीजी" उप्पर से देखते होगे
और तरसकर यह कहते होगे
क्या इस लिए ही मैं इन्हें
आजाद किया था
यह वाकया देखकर, हैरान रहते होंगे
कभी कभी वो,  यह भी  सोचते होगे 
गलत हो गया,
इंसान की जगह "बन्दर" को चुनकर
बुरा मत सुनो,
बुरा मत देखो,
बुरा मत कहो,
अगर रखता एहां "इंसान" को चुनकर
शायद बन्दर सी हरकते रुक गई होती
उछलना,
कूदना,
फिर बन्दर सी चाल भी
इन्ही  के सामने झुक गई होती
यहाँ की  जनता सब कुछ देखती फीर भी
अपनी आँखे  ढक देती हैं
और नेता लोग, जनता की  यह
पीड़ा देखकर  आँखे ढक लेती  हैं
यहाँ तो जनता सब कुछ सुनकर भी
कुछ भी तो नहीं कह पाती
जनता ने  आवाज़ निकाली तो भी वह
नेता को सुनाई नहीं देती
यहाँ  जनता को जरुरी नहीं
बंद करना जुबान,
यहाँ तो सिर्फ नेता ही बोलते हैं
जनता कुछ भी तो नहीं  बोल पाती
फीरसे,
हर बार,
कुर्सी उन्ही के नाम हो जाती
अब हमें लगने लगा हैं की
वह  उपदेश,
सिर्फ जनता के लिए था
इस लिए नेता ल़ोग बेफिक्र थे
क्यूँ की
उपदेश ना की नेता के लिए था

Monday, July 5, 2010

भारत बंद!

बंद के नाम से देश के धन को क्यूँ जला रहे हैं यहाँ
जिम्मेदार ही  जिम्मेदारियों को क्यूँ भुला रहे हैं यहाँ

एक ही जात के राजनेता महंगाई रोको कहकर यहाँ
महंगाई के पिस्तोल से  गोलीयाँ क्यूँ चला रहे हैं यहाँ

अभी तक पता नहीं उनका, कई वादे कर गये यहाँ
आखिर उन्ही को हम सत्तासुख क्यूँ दिला रहें यहाँ

महंगाईके मारसे दबकर मरे हुए लगते हैं सब  यहाँ
उन्हीको मुर्दा समझकर अंतपे क्यूँ सुला रहे है यहाँ

महंगाई के पहाड़ सी सरकार हिलाना भी बेकार यहाँ
बंद के एक छोटे किलेसे पहाड़ क्यूँ हिला रहे हैं यहाँ  

दाल सब्जी  के दाम भी आसमान  को छू चुके  हैं यहाँ
पेट्रोल और डिजल के आंसुओंसे क्यूँ रुला रहे हैं यहाँ

इस दूषित हवा को भी बेचने के लिए ही बैठे हैं यहाँ
हर सांस के साथ कडवा जहर क्यूँ पिला रहे हैं यहाँ
 

भारत बंद! भारत बंद! यही नारा क्यूँ झुला रहे हैं यहाँ
जाम कहकर, चक्का वोटों की तरफ क्यूँ चला रहे हैं यहाँ

Thursday, May 27, 2010

बेटा या बेटी -३

(अब तक आपने पढ़ा की रोहन को दूसरी बेटी होती है. माँ को बेटी होना पसंद नहीं इस लिए फ़ोन काट देती हैं.दूसरी बेटी जन्म के तुरंत बाद ही वह प्लानिंग करता हैं यह बात किसी को बताता नहीं . राकेश की माँ यह सलाह देती हैं की मशीन  (सोनोग्राफी) द्वारा परिक्षण के बाद ही उसें पोता मिला था इस लिए रोहन भी वैसाही करें.  रोहन पत्नी और बच्चे के साथ आपनी बेटी का पहला जन्म दिन मानाने गाँव चले  जाते  हैं. वहां उसका बचपन का दोस्त रमेश मिलता हैं. रमेश पांच बेटियों के बाद बेटा पाने के लिए दूसरी शादी करना चाहता हैं.  रोहन के  बापू को मालूम पड़ता हैं की रोहन ने दो बेटियों के बाद  संतान रोकने का आपरेशन किया हैं इस लिए  उन्हने रोहन के सामने दूसरी शादी का विकल्प रखते हैं ताकि पोता पा सके . बेटी का पहला जन्म दिन मनाने का सपना अधूरा छोड़ कर रोहन बपुजिके फैसले का विरोध कर गाँव से निकल पड़ता हैं .... और आगे ...)
भाग -3


           रोहन को चार  दिन बाद  ऑफिस ज्वाइन करना था इस लिए बिस्तर पर लेटे लेटे ही अख़बार पड़ रहा था उतने में रेवती ने  आवाज़  दी.
"सुनो हम अर्चना का जन्म दिन गाँव में मना नहीं सके लेकिन हम एहां तो मना सकते हैं ना"
"हम कल उसका जन्म दिन यहीं पर   मनाएंगे"
"ठीक हैं सिर्फ राकेश  चम्पा और माँ जी  को ही बुला लो"
"और साथ में उनके बेटियों को भी बुला लेंगे".
 "ठीक हैं"
और समय के साथ साथ सब तय हो गया केक लाया गया और पड़ोस के कुछ बच्चों को भी बुलाया गया केक काटकर शहरी परम्परा से अर्चना का जन्म दिन का कार्यक्रम का समापन हो गया. माँ के आलावा राकेश के घर से सभी लोग उपस्थित थे लेकिन रोहन रहा नही पूछ ही लिया की माँ के अनुपस्थिति की वजह क्या हैं? राकेश ने कहा फिलहाल माँ घर में नहीं हैं ओ अपने एक रिश्तेदार के एहां चली गयी हैं. राकेश ने आगे कहा
"यार अर्चना का जन्म दिन तो १९ को था बी २१ को कैसे"
"उसके लिए एक लम्बी  कहानी है फिर कभी"
"अरुण का जन्म दिन कैसा हुआ"
"बहुत बढ़िया एक बड़े होटल में तक़रीबन ४०० लोगोंको आमंत्रित किया  था. मेरी पहली बेटी का जन्म दिन भी इतने धूम धाम से नहीं मनाया था.रोहन तुम होते  तो और भी मजा आता"
"बहुत बढ़िया"
"अच्छा रोहन मैं चलता हूँ"
राकेश के जाने के बाद  रोहन सोच में पड़ गया की समाज में ऐसे कई लोग हैं जो बचपन से ही बेटा और बेटीके  पालन पोषण में इतना बड़ा फासला बना देते हैं की यह सब देखकर भगवान को  भी कभी कभी बेटी बनाने के गलती का अहसास होता होगा. हम बचपनसे ही बेटी को पराया धन कहकर उसके मन में बिठा देते हैं की यह घर उसका नहीं हैं. इस घर पे केवल बेटे का ही अधिकार हैं.

          एक दिन रोहन ऑफिस से निकलने के लिये तैयार हो ही रहा था उसे खबर मिली की बहार रीशेपशन   में कोई इन्तजार  कर रहा हैं. जाकर देखता तो दो अधेड़ उम्र की महिलएं बैठी थी जैसाही रोहन  उनके पास गया उनमेसे के महिला बोल पड़ी.
"साहब मैं आशा और संजना  संजीवनी अनाथ आश्रम से आये हैं कुछ देणगी चाहते हैं"
"लेकिन मैं तो बस एक १०० या २०० रु दे सकता हूँ बस"
" साहब हमारे आश्रम में  २५ निराधार महिलएं रहती हैं"
"तो मैं क्या कर सकता हूँ"
"आप उन में से एक का साल भर का खाना दे सकते हैं, सुबह का नाश्ता ८०० रु हर साल दो वक्त का खाना २००० रु और दो वक्त का खाना और नास्ता २५०० रु साल भर के लिए"
"मुझे सोचने के लिए थोडा वक्त चाहियें  दो तिन दिन में मैं आपको बता दूंगा क्या करना हैं"
"साहब आपसे से  गुजारिश हैं आप सिर्फ एक बार हमारे  आश्रम को देख लीजिएगा और उसके बाद ही  फैसला लीजियेगा"
"ठीक हैं यह सब बादमें"
"नहीं साहब हमारा आश्रम  एहां से नजदीक ही हैं आज ही देखे तो ठीक रहेगा"
ओ दोनो  औरतें हाथ जोड़कर मिन्नते करने लगी रोहन को रहा नहीं गया और आज ही आश्रम देखने का फैसला कीया.

            थोडीही देर में तिनोही  आश्रम के नजदीक आ गए बड़े बड़े निलगिरी के पेड़ आश्रम की शोभा बड़ा रहे थे. कुछ महिलएं गाना गाते गाते ही पापड़ बेल  रहे थे वैसा तो  ही आश्रम ठीक ठाक लग रहा था. पूरा आश्रम देखकर रोहन ने दो तिन दिन का वक्त मांगकर वहां से निकलने लगा. उतने में पीछे से आवाज़ आयी :"बेटा"आवाज़ कुछ जानी  पहचानी लगती थी इस लिए रोहन पीछे मुड़कर देखा माँ जी यानी राकेश की मा.
"माँ आप एहां"
"हाँ बेटा"
"क्या राकेश को मालूम हैं की आप एहां हैं"
"बेटा राकेश खुद मुझे एहां छोड़ गया हैं"
"मैं घर में कुछ काम नहीं कर रही हूँ ऐसा बहु ने शिकयत की और इधर से मैनेजर  से बात कर मेरा एहां दाखिला करवाया.  मेरा एक ही बेटा था जो मुझे इस हालात में छोड़  गया हैं. बेटा उस दिन मैं तुम्हे अस्पताल में कही थी की बेटा होना चाहियें लेकिन अब मैं तुझे यह कहती हूँ की बेटा हो या बेटी कुछ फर्क नहीं पड़ता"
"माँ जी कुछ जरुरत रहे तो फ़ोन कीजयेगा मैं मेरा नंबर एहां आशा मैडम के पास छोड़ जाता हूँ" ऐसा कहकर रोहन ने जेब में से ५०० रु निकाले और उस वृद्ध महिला के हाथ में थमा दियें.
वृद्ध महिला के आंख भर आयें और जाते जाते उसने कहा.
"बेटा तू मुझे मिला था इस बात जिक्र राकेश के से मत  करना शायद मुझे बेटी होती तो कुछ सहारा मिल गया होता लेकिन भगवान की येही मर्जी हैं"

       रोहन वहां से निकल पड़ा और सोचने लगा जीवन भी एक अजीब खेल खेलता हैं. बचपन पूरा बड़ा होने में गुजर जाता हैं.  जवानी पूरी काम और  मस्ती में  गुजर जाती हैं.  बुढ़ापा सिर्फ जवानी के यादों को ताजा करके जीना चाहता हैं. लेकिन बचपन जवानी की ओर , और बुढापा जवानी के यादोमें गुजर जाता हैं और जवानी में हम बेटा या बेटी के चक्कर में न जाने कितने अपराध करते हैं. लेकिन अभी भी बहुतसे लोग आपनी मंजिल आपने बेटो में तलाशते हैं. उन्हें यह पता नहीं होता की अंधरे में सिर्फ नजदीक का रास्ता ही दिखता हैं दूर का नहीं. लेकिन याद रहे बेटा हो या बेटी ओ तुम्हारे साथ तब तक चलते हैं जब तक उनके पास खुद की  रौशनी नहीं होती. जब तुम्हारी रौशनी ख़त्म होती हैं तो सिर्फ अन्धेरा ही अन्धेरा होता हैं. मंजिल अभी भी बहुत दूर दिखाई पड़ती हैं  रास्ता लम्बा हैं और अन्धेरा घना हैं.  यह जीवन का   रास्ता हमें पार करना ही हैं चाहे कोई साथ हो या ना हो.
(समाप्त)

Wednesday, May 26, 2010

बेटा या बेटी- २

(अब तक आपने पढ़ा की रोहन को दूसरी बेटी होती है. माँ को बेटी होना पसंद नहीं इस लिए फ़ोन काट देती हैं . दूसरी बेटी जन्म के तुरंत बाद ही वह प्लानिंग करता हैं यह बात किसी को बताता नहीं . राकेश  की माँ यह सलाह देती हैं की मशीन (सोनोग्राफी) द्वारा परिक्षण के बाद ही उसें पोता मिला था इस लिए रोहन भी वैसाही करें .. और आगे ...) 
भाग २
            तक़रीबन पांच साल बाद रोहन अपने वतन यानि गाँव लौटा था. गाँव में तो उतना कुछ परिवर्तन नहीं हुआ था लेकीन गली गली में सीमेंट की सड़कें जरुर बनी थी. गाँव के पास एक बड़ा इमली का पेड़ था उसे गाँव के लोगोने तोड़ दिया था. क्यूंकि  पेड़ की जड़े मंदिर के दिवार में घुस रहीथी ऐसा गाँव के लोगों का कहना था. गाँव के मंदिर और उंचा हो गया था. तक़रीबन दो फर्लांग  का रास्ता चलते चलते रोहन आपने घर के द्वार पर दाखिल हुआ. दाखिल होते ही भाभीने स्वागत किया अर्चना को उठाकर गोद में लिए और उसके अंदर ले जाते ही माँ और बापू अन्दर से बहार आयें. रोहन और रेवती ने माँ बापू के चरण स्पर्श कियें. जीते रहो कहकर बेटे और बहु को आशीर्वाद दिया. माँ ने हालचाल पूछते हुए कहा.

"बेटा आने से पहले फ़ोन तो करना था और अचानक आ गया"
"नहीं माँ अर्चना का पहला  जन्म दिन गाँव में मनाना था"
"लेकिन बेटा हमारी बहुत ही तमन्ना थी दुसरा बेटा होगा"
"माँ बेटा हो या बेटी आजकल उतना फर्क नहीं हैं. चार दिन बाद १९ तारीख को अर्चना का पहाला जन्म दिन हैं सोचा इस ख़ुशी के मौके को साथ में बाटा जाएँ"
"चलो ठिक हुआ"
माने अंकिता को अन्दर ले गयी उतने में भाभी ने चाय ले आयीं कई सालों बाद रोहन को गाँव की चाय नसीब हुयी थी और ओ चुस्की लेकर चाय पी रहा था. चाय पिने के बाद रोहन ने रेवती को बहार बुलाकर कहा.

"अभी घर में किसीसे कुछ भी नहीं कहना की हमने प्लानिंग की हैं अर्चना का जन्मदिन के बाद यह बात मैं माजी को मैं  खुद कह दूंगा"
"ठीक हैं"
"मैं थोड़ा बहार जाकर अपने पुराने दोस्तों को मिल आता हूँ"

रोहन ने पिताजी को कहकर  अपना पुराना दोस्त रमेश के घर की तरफ निकल पड़ा. जैसे ही रमेश के घर गया रमेश ने उसका स्वागत किया. रमेश ने आपने पाच बेटियों का परिचय करवा दिया.यह सब देख कर रोहन को रहा नहीं और कहा.
"यार पांच बेटियां कुछ प्लानिंग किया होता"
"नहीं मुझे बेटा चाहियें था"
"अगली बार बेटा नहीं हुआ तो"
"अगली बार बेटा जरूर होगा"

उतने में जयंती यानि रमेश की पत्नी बहार आयीं चेहरे का तेज उतर गया था कुछ परेशां नज़र आ  रही थी.  उतने में रमेश को किसी का बुलावा आया और ओ जल्दी ही अता हूँ कहकर बहार गया. रोहन ने जयंती से कहा.

"क्या हाल बना रखा हैं" यह सुनतेही जयंती रो पड़ी और कहने लगी.
"भय्या ज़रा अपने दोस्त को कह दीजियेगा
"क्या कहना हैं"
"यह की दूसरी शादी ना करें"
"क्या रमेश दूसरी शादी करना चाहता हैं"
"हाँ उनको बेटा चाहियें, क्यूँ की मैं उन्हें बेटा नहीं दे सकती".
"चिंता मत करो मैं उसे समझा दूंगा"
"सूना हैं आपको दूसरी भी बेटी हुई हैं"
"हाँ! और हमें अब दो बेटियां ही हैं यानि अब बेटा नहीं होगा"
"क्यूँ और एक बार देख सकते"
"नहीं मैंने मेरे बीवी का आपरेशन करवाया हैं"
"इसका मतलब अभी बच्चा नहीं होगा"
"नहीं! लेकिन यह बात किसीसे कहना मत"
"ज़रा आप इनको बताईयेगा की दूसरी शादी ना करे"यह कहकर जयंती फिर रोने लगी
उतने में रमेश बहार से आते ही जयंती पर चिल्लाते हुए कहा तुने रोहन को क्या बतया और जयंती को घिसिटते हुए अन्दर ले गया. रोहन कुछ ना कर सका वहांसे निकलकर घर आ पहुंचा.
आखरी बार जब रोहन रमेश से मीला था उसकी दो बेटियां थी जो उसकी दूसरी बेटी लगभग अंकिता के उम्र की थी उसके बाद उसे तिन और बेटियां पैदा हुई थी.

                   आज अर्चना का पहला जन्म दिन था. घर के सभी ल़ोग सुबह से ही काम में लगे थे घर एक के माहोल में एक अजीबसी प्यार की खुशबू थी. सब ल़ोग आपने आपने काम में लगे थे शायद बापूजीके चेहरे परभी ख़ुशी झूम रही थी.  रोहन अर्चना का जन्मदिन घर में ही मनाना चाहताथा इस लिए बहार के किसी को आमंत्रित नहीं किया था.
 भाभी ने माँ जी   को अन्दर बुला लिया और कहा
"सासु माँ क्या आपको पता हैं"
"क्या हैं  बहु साफ साफ बतादे"
"छोटी बहुने आपरेशन करवाया हैं"
"यानि अब इस दो बेटियोंके बाद रोहन को बेटा नहीं होगा"
"इतना बड़ा धोका! बहु तुम्हे किसने बताया"
"सासु माँ पुरे गाँव में खबर फ़ैल गयी हैं"
"क्या यह सच  हैं"
"हाँ सासुमाँ आपके रोहने ने  खुद जयन्तीको  कहा था "
"बहु ज़रा रोहन के बापू को बुला लेना"

 इतने में बहु ने जाकर रोहन के बापू को बुलाकर लाती हैं और बापूजी को सारा मामला मालूम पड़ता हैं. फिर बापूने रोहन को आपने कमरेमें बुलाकर पूछते हैं.
"रोहन मैं ये क्या सुन रहा हूँ"
"क्या हैं बापूजी"
"क्या तुमने बहु का आपरेशन करवया हैं ओ भी दो लड्कियोंपर"
"हाँ बापूजी"
"क्या तुम्हे लड़का नहीं चाहियें"
"आजकल लड़का या लड़की में कोई अंतर नहीं होता"
"मुझे मत सिखा"
अब बापूजी की  आंखे लाल हुयी थी वह कुछ सुननेके लायक   नहीं थे गुस्से में कुछ भी कदम उठा सकते थे उनके मुह से बहार आने वाले शब्द भी रुक  गए थे बापूजी ने गहरी सास ली और कहा.
":बेटा तुमने ऐसा क्यूँ किया"
"बापूजी यह मेरा ही फैसला था"
"तुम दूसरी शादी कर लो"
"नहीं मैं रेवती को धोका नहीं दे सकता"
"ठीक हैं तुम्हारा येही फैसला हैं तो मेरा फैसला भी सुनो  तुम्हे अगर मेरे जायदाद में का हिस्सा चाहिए तो मेरी बात तुम्हे माननी पड़ेगी"
"नहीं पिताजी मैं ऐसा नहीं कर सकता"
"ठीक हैं इसी समय सामान बंधो और निकलो, अब इस घर में तुम्हे कोई जगह नहीं"

 रोहन गुस्से से बहार आया सामान पैक करके रेवती और दो बेटियों के साथ घर से निकल पडा. रोहन मन ही मन सोचने लगा की उसका इस दुनिया में कोई भी नहीं और जिस गाँव में वह अपना बचपन गुजरा वही गाँव अब उसे पराया हो गया था.
(क्रमश:)

Tuesday, May 25, 2010

बेटा या बेटी १


भाग १
(इस  कहानी  में दिए गए नाम और पात्र काल्पनिक  हैं)

रोहन ने  माँ को फ़ोन लगाया और कहने लगा.

"माँ मैं रोहन   बोल रहा हूँ  शहर से"
"बोलो बेटा सब ठीक तो हैं ना , और बहु कैसी हैं"
"वही माँ घर में लक्ष्मी आयीं हैं आप दादी बन गई हैं"
"क्या पोता हुआ हैं"
"नहीं माँ पोति हुई हैं".
"दूसरी भी"
"हाँ"

फिर फ़ोन कटने की आवाज़  रोहन  सोच लिया की माँ ने फ़ोन काट  दिया  होगा और मन ही मन सोचने लगा की शायद रेवती की तबियत के  बारेमें पूछा होता.  फिर से वह लौटकर रेवती  के पास आया खाट के पास  रखे हुए स्टूल पे  बैठ गया. एक बूढी औरत रोहन  के पास आयीं और मिठाई का डिब्बा आगे करते हुए कही.

"बेटा मुह मीठा कर ले पोता हुआ हैं"
"बधाई माजी"
"क्या तुम  अकेले ही  इस अस्पताल में! प्रसवन समय अस्पताल में  औरत  का होना बहुत जरुरी हैं "
"नहीं माँ जी मदद के लिए पड़ोस की आंटी  आती  हैं सुबह और शाम" 
"बेटा निराश मत हो अगले बार लड़का जरुर होगा मेरे बहु को भी पहले दो लडकिया हुयी और अब यह लड़का लेकिन एक बात का ख़याल रहे की पहलेही इलाज कर रखना"
"इलाज़ मैं समझा नहीं"
"इलाज़ यानि ओ मशीन से पता कर लेते हैं ना की  लड़का होगा या  लड़की"
"लेकिन यह  तो कानूनन अपराध हैं और डॉक्टर ऐसा करेंगे क्या"
"अरे बेटा काहेका अपराध थोड़ा ज्यादा  पैसा देकर करवा लेना और डोक्टर भी अन्दर के अन्दर सब कर देगा
देखो अभी मेरी बहु चम्पा हैं ना ये उसका दुसरा मौक़ा हैं क्यूँ की दो लड़कियों के बाद जब ओ उम्मीदसे थी तभी मशीन टेस्ट में लड़की निकली"
"फिर"
"फिर क्या बेटे! गिरा दिया और अब यह पोता"
ऐसा कहते कहते  वृद्ध महिला   बहु के पास चली गयी क्यूँ के कुछ और ल़ोग जमा हुए थे जो सभी ल़ोग बहु को बधाई  देने आये थे.

रोहन  अब बिलकुल अकेला  हो गया था सोचा माँ का फ़ोन आयेगा लेकिन किसका भी अभी तक फ़ोन नहीं आया था वह मन ही मन सोचने लगा था क्या लड़की होना कोई गुनाह हैं ? उतने में रेवती  ने आवाज़ दी.

"सुनो घर में किसीको बताया तो नहीं ना की दो लड़कियों पर प्लानिंग की हैं"
 "नहीं! माको सिर्फ  लड़की हुई हैं इतनाही बताया हैं"
"ठीक हैं! जब हम  गाँव जायेंगे तभी बता देंगे"
"ठीक  हैं"

कुछ दिन और बीत गएँ एक दिन मार्केट वह बुढ़िया मिली और पूछ ताछ शुरू की.

'बेटा तुम एहां कैसे"
"पहले यह बताओ की आप येहाँ "
"हां मेरा बेटा अभी येही पर घर लिया हैं आनंद नगरमें "
"आनंद नगर में तो मै भी रहता हूँ"
"चलो पास में ही हैं मैं तुमे हमारे घर  ले जाती हूँ लो आ गया येही घर"

घर के अन्दर जाते ही बुढीया ने राकेश को बुलाकर परिचय करवा दिया और चम्पा बिस्तर  पर ही थी इस लिए  माँने ही चाय बना लायी और चाय पीते पीते ही रोहन ने  कहा.

"मेरा घर भी इधर पास में ही हैं कभी कभी आते जाते रहना"
"जरुर अब तो हमारा परिचय भी हो गया आत जाते रहेंगी" राकेश ने कहा.
"बेटे का नाम क्या रखा हैं"
"अरुण नाम रखा हैं जो इसके दादाजी की अंतिम इच्छा थी"

राकेश ने साथ में उसकी बड़ी  और छोटी बेटीयोंको को बुलाया और कहा.

"यह मेरी पहली बेटी रुचिका और दूसरी रक्षिता आपको कितने बच्चे हैं"
"जी मेरी दो बेटियां  हैं  अंकिता और अर्चना"

थोड़ी देर रूककर रोहन घर की ओर निकल पड़ा अब राकेश  और रोहन अच्छे दोस्त बन गए थे अब  लगतार आना जाना रहता था. ठीक  उसी तरह चम्पा और रेवती भी एक दुसरे में घुल मिल गए थे और साथ  में दोनों परिवार के बच्चे भी.
(क्रमश:)

Friday, April 30, 2010

कुत्ते कमीने...

एक दिन गाँव के सभी कुत्तोने मिलकर एक  आसोसियशन का निर्माण किया उस असोसीयसन  का नेत्रत्व  'टॉमी' नाम के कुत्ते ने किया. टॉमी ने चौपाल के सभी कुतों को इक्कठा  किया और टॉमीने आपना भाषण भौंकने  लगा.
" एहां उपस्थित साथियों को प्रणाम अब मैं कुछ अहम मुद्दों पर चर्चा करेंगे. मेरा सबसे पहले आप लोगों को एक बात
 पूछना  चाहता हूँ की यह आदमी ल़ोग  जब भी किसी बुरे  आदमी को गाली देने का हैं तो हमारे नाम से ही गाली क्यूँ देते हैं? उदहारण   के लिए  'कुत्ते कमीने ' इस शब्द का प्रयोग किया करते हैं और यह हमारे लियें शर्म की बात हैं.  अब हमने भी यह सोच रखा हैं की किसी भी कुतों को गाली देना हैं तो आजसे हम भी आदमी के नाम से गाली दिया करेंगे जैसा की 'आदमी कमीने'.  मेरे कुतों, हमारा  सबसे पहले यह हक बनता  हैं की जो फिल्मोमे काम करे वाले ल़ोग हमेशाही इस भाषा का प्रयोग किया करते हैं. लेकिन क्यूँ क्या हम वफादार होते हैं इस लियें? आदमी लोगों का एक बहुत ही बड़ा सिनेमा हैं जिसका नाम हैं शोले वहां  तो हीरो अपने हेरोइन को कहता हैं 'बसंती इन कुत्तों के सामने मत नाच' मुझे तो उस फिल्म में  दूर दूर कोई कुत्ता नज़र नहीं आता फिर भी इस भाषा का प्रयोग  ओ भी गुंडों के लिए यह कतई शोभा नहीं देता और हमारा पहला उद्देश यह हैं की हम उस शोले पिक्चर का बहिष्कार  करंगे".
एक कुत्ता उठकर भौंका.. 
"लेकिन हम बहिष्कार करे तो कैंसे? क्यूँ की आदमी बहुत ही चालाक और बेईमान होता हैं और हम जैसे वफादार कुत्तों को भी कमीने  शब्द का प्रयोग किया करता हैं. असल बात यह हैं के ओ खुद कमीना होता हैं"
टॉमी आगे बोला..
"आज से हम एक प्लान के मुताबिक काम करंगे अगर कहाँ भी शोले का पोस्टर दिखाई दिए  तो पहले उसे फाड़ देंगे. शोले का नहीं बल्कि उस हीरो का  हर एक पोस्टर्स फाड़ देंगे  जिसनेभी  इस शब्द का प्रयोग किया हो"
और एक कुत्ता उठकर भौंका
"अगर हमने ऐसा किया तो कमीने आदमी लोग हमें छोड़ देंगे क्या"
टॉमी भौंका.. 
"ओ कमीने आदमी ल़ोग हमारा कुछ बिगाड़  नहीं सकते  क्यूँ की हम यह काम रातमें किया करंगे. और रात में अगर कोई चोर आदमी  किसी के घर में घुसा तो भौंकना नहीं. और जब सब ल़ोग आराम से सोये होते हैं तो तभी हम जोर जोर से भौंकना चालू रखेंगे और कमीने आदमीयों  नींद हराम कर देंगे".
एक और कुत्ता उठाकर भौंकने लगा
"सुना हैं उस कमीने आदमियोने  फैसला किया हैं की बिजली के खम्बे उखाड़ देने वाले हैं इस हालात में  हम क्या करेंगे?
टॉमी भौंका..
"कोई बात नहीं कुछ ल़ोग कार तो घर के बहार ही पार्क करंगे ना"
"लगता हैं उसके लिए भी एक नया नियम आने वाला हैं जैसा की  जिसके एहां पार्किंग की सुविधा हैं सिर्फ वही ल़ोग कार लिया करंगे"
"डरने की कोई बात नहीं हम गेट  कूदकर अन्दर जायेंगे और हमारा काम करेंगे अगर गेट  कूद ना सके तो कम्पौंड की  दिवार का इस्तमाल किया करंगे. मेरे प्यारे कुत्तों कुछ और समस्या रहे तो अभी बोल दो"
सभी कुत्तोने हाँ भर दी और जोश जल्लोष के साथ नाचभौंकना चालू किया .....

रोहन यह देख रहा था और ओ भी खुशीसे उन कुत्तों के साथ नाच रहा था..रोहन उठो... रोहन..माँ की आवाज़ ने रोहन को जगा दिया.  रोहन मन ही मन में सोचने लगा की कितना अच्छा सपना था "कुत्ते कमीने"

Friday, April 16, 2010

मुंबई का ऑक्सिजन



                     जिसे सोना था बैठे हुए हैं, जिसे बैठना था खड़े हैं, जिसे खड़े रहना था चल रहे हैं, जिसे चलना था दौड़ रहे हैं और जिसे दौड़ना था उससे भी तेज सवारी पकड़ते हैं। यही हैं मुंबई इसे हम मायानगरी भी कहते हैं। अगर हम पुरे हिन्दुस्तान का मुआयना किया तो यह बात सामने आती हैं की हिंदुस्तान सिर्फ दो तरह के ल़ोग रहते हैं एक मुंबई में रहने वाले और दुसरे किसी और शहरमे। कहते हैं एहां ल़ोग मशीन की तरह काम करते हैं। कुछ लोगोने ने तो इसे यांत्रिक जीवन बताया हैं।


                      इस यांत्रिक जीवन को सरल बनाने के लिए वहां लोकल गाड़ियाँ हैं उसे हम मुंबई की रक्तवाहिनी कहते हैं। मुंबई का जलवा  देखकर यह  मालूम पड़ता हैं की उसमे यात्रा करने वाले लोग यानी रक्त कोशिकाएं जो इस पुरे शहर को ऑक्सिजन सप्लाय करती हैं। सोचने वाली बात यह हैं की आखिर मुंबई का ऑक्सीजन हैं क्या? मुंबई का ऑक्सिजन यानि पैसा, यह पैसा ही मुंबई को आबाद किया हैं और यह पैसा आता हैं हर एक इंसान के खून पसिनेकी कमाई से। एहां काम करने वाला हर इंसान मशीन की तरह काम करता हैं। अपने जीवन शैली साथ साथ उस शहर की तरक्की का हिस्स्सा बन जाता हैं

                        
एहां लोगों का एकही मकसद होता हैं काम और उसी काम के लिए सुबह की लोकल पकड़ना बहुत ही जरुरी बन जाता हैंलोकल छुट गई तो बस, इस लिए यहाँ ९० प्रतिशत ल़ोग अपने लोकल का समय निश्चित करके ही चलते हैं। जीवन का समय निश्चित हो ना हो लेकिन लोकल का समय निश्चित होनाही हैं। एहां बहुतसे ल़ोग ऐसे हैं की अपनी लोकल समय पे पकड़ने के लिए रेल लाइन क्रास  करते हैं और इसमें बहुतसे ल़ोग आपनी  रक्त वाहिनियाँ को रेल के हवाले छोड़ देकर जान गवां बैठते हैंजब ओ रेल के निचे कटते हैं तो  खून उसी तरह बहता हैं जैसा की स्टेशन में रुकी हुई ट्रेन में से लोग बहार आते हैंमुंबई में लोगों का जीने का और काम करने का तरिका बिलकुल ही अलग हैंकहते हैं जो आदमी मुंबई में टिका तो  दुनिया को बिका।  ल़ोग  सभी  शहरोंमें रहते हैं लेकिन हर शहर का एक स्टाइल हैं, दुसरे बड़े शहरों में काम तो होता हैं लेकीन मुंबई के हिसाब से कम ही होता हैं। 

                       कई लोगोने सवाल उठाए हैं की मुंबई किसकी ? उनके लिए मेरा उत्तर एक ही हैं।  मुंबई उन लोगोंकी है जो उस लोकल की भीड़से गुजरकर रोजीरोटी कमाते हैं।  मुंबई तो उन लोगोंकी हैं जो लोग कामपर नहीं बल्कि  युद्ध पर जा रहे हैंमुंबई तो आम लोगोंकी हैं जो लोग रक्त कोशिकाएं बनकर पुरे  मुंबई को  ऑक्सिजन सप्लाय करते हैंऔर एही हैं मुंबई का ऑक्सिजन जो मुंबई को ज़िंदा रखा हैं