Wednesday, May 26, 2010

बेटा या बेटी- २

(अब तक आपने पढ़ा की रोहन को दूसरी बेटी होती है. माँ को बेटी होना पसंद नहीं इस लिए फ़ोन काट देती हैं . दूसरी बेटी जन्म के तुरंत बाद ही वह प्लानिंग करता हैं यह बात किसी को बताता नहीं . राकेश  की माँ यह सलाह देती हैं की मशीन (सोनोग्राफी) द्वारा परिक्षण के बाद ही उसें पोता मिला था इस लिए रोहन भी वैसाही करें .. और आगे ...) 
भाग २
            तक़रीबन पांच साल बाद रोहन अपने वतन यानि गाँव लौटा था. गाँव में तो उतना कुछ परिवर्तन नहीं हुआ था लेकीन गली गली में सीमेंट की सड़कें जरुर बनी थी. गाँव के पास एक बड़ा इमली का पेड़ था उसे गाँव के लोगोने तोड़ दिया था. क्यूंकि  पेड़ की जड़े मंदिर के दिवार में घुस रहीथी ऐसा गाँव के लोगों का कहना था. गाँव के मंदिर और उंचा हो गया था. तक़रीबन दो फर्लांग  का रास्ता चलते चलते रोहन आपने घर के द्वार पर दाखिल हुआ. दाखिल होते ही भाभीने स्वागत किया अर्चना को उठाकर गोद में लिए और उसके अंदर ले जाते ही माँ और बापू अन्दर से बहार आयें. रोहन और रेवती ने माँ बापू के चरण स्पर्श कियें. जीते रहो कहकर बेटे और बहु को आशीर्वाद दिया. माँ ने हालचाल पूछते हुए कहा.

"बेटा आने से पहले फ़ोन तो करना था और अचानक आ गया"
"नहीं माँ अर्चना का पहला  जन्म दिन गाँव में मनाना था"
"लेकिन बेटा हमारी बहुत ही तमन्ना थी दुसरा बेटा होगा"
"माँ बेटा हो या बेटी आजकल उतना फर्क नहीं हैं. चार दिन बाद १९ तारीख को अर्चना का पहाला जन्म दिन हैं सोचा इस ख़ुशी के मौके को साथ में बाटा जाएँ"
"चलो ठिक हुआ"
माने अंकिता को अन्दर ले गयी उतने में भाभी ने चाय ले आयीं कई सालों बाद रोहन को गाँव की चाय नसीब हुयी थी और ओ चुस्की लेकर चाय पी रहा था. चाय पिने के बाद रोहन ने रेवती को बहार बुलाकर कहा.

"अभी घर में किसीसे कुछ भी नहीं कहना की हमने प्लानिंग की हैं अर्चना का जन्मदिन के बाद यह बात मैं माजी को मैं  खुद कह दूंगा"
"ठीक हैं"
"मैं थोड़ा बहार जाकर अपने पुराने दोस्तों को मिल आता हूँ"

रोहन ने पिताजी को कहकर  अपना पुराना दोस्त रमेश के घर की तरफ निकल पड़ा. जैसे ही रमेश के घर गया रमेश ने उसका स्वागत किया. रमेश ने आपने पाच बेटियों का परिचय करवा दिया.यह सब देख कर रोहन को रहा नहीं और कहा.
"यार पांच बेटियां कुछ प्लानिंग किया होता"
"नहीं मुझे बेटा चाहियें था"
"अगली बार बेटा नहीं हुआ तो"
"अगली बार बेटा जरूर होगा"

उतने में जयंती यानि रमेश की पत्नी बहार आयीं चेहरे का तेज उतर गया था कुछ परेशां नज़र आ  रही थी.  उतने में रमेश को किसी का बुलावा आया और ओ जल्दी ही अता हूँ कहकर बहार गया. रोहन ने जयंती से कहा.

"क्या हाल बना रखा हैं" यह सुनतेही जयंती रो पड़ी और कहने लगी.
"भय्या ज़रा अपने दोस्त को कह दीजियेगा
"क्या कहना हैं"
"यह की दूसरी शादी ना करें"
"क्या रमेश दूसरी शादी करना चाहता हैं"
"हाँ उनको बेटा चाहियें, क्यूँ की मैं उन्हें बेटा नहीं दे सकती".
"चिंता मत करो मैं उसे समझा दूंगा"
"सूना हैं आपको दूसरी भी बेटी हुई हैं"
"हाँ! और हमें अब दो बेटियां ही हैं यानि अब बेटा नहीं होगा"
"क्यूँ और एक बार देख सकते"
"नहीं मैंने मेरे बीवी का आपरेशन करवाया हैं"
"इसका मतलब अभी बच्चा नहीं होगा"
"नहीं! लेकिन यह बात किसीसे कहना मत"
"ज़रा आप इनको बताईयेगा की दूसरी शादी ना करे"यह कहकर जयंती फिर रोने लगी
उतने में रमेश बहार से आते ही जयंती पर चिल्लाते हुए कहा तुने रोहन को क्या बतया और जयंती को घिसिटते हुए अन्दर ले गया. रोहन कुछ ना कर सका वहांसे निकलकर घर आ पहुंचा.
आखरी बार जब रोहन रमेश से मीला था उसकी दो बेटियां थी जो उसकी दूसरी बेटी लगभग अंकिता के उम्र की थी उसके बाद उसे तिन और बेटियां पैदा हुई थी.

                   आज अर्चना का पहला जन्म दिन था. घर के सभी ल़ोग सुबह से ही काम में लगे थे घर एक के माहोल में एक अजीबसी प्यार की खुशबू थी. सब ल़ोग आपने आपने काम में लगे थे शायद बापूजीके चेहरे परभी ख़ुशी झूम रही थी.  रोहन अर्चना का जन्मदिन घर में ही मनाना चाहताथा इस लिए बहार के किसी को आमंत्रित नहीं किया था.
 भाभी ने माँ जी   को अन्दर बुला लिया और कहा
"सासु माँ क्या आपको पता हैं"
"क्या हैं  बहु साफ साफ बतादे"
"छोटी बहुने आपरेशन करवाया हैं"
"यानि अब इस दो बेटियोंके बाद रोहन को बेटा नहीं होगा"
"इतना बड़ा धोका! बहु तुम्हे किसने बताया"
"सासु माँ पुरे गाँव में खबर फ़ैल गयी हैं"
"क्या यह सच  हैं"
"हाँ सासुमाँ आपके रोहने ने  खुद जयन्तीको  कहा था "
"बहु ज़रा रोहन के बापू को बुला लेना"

 इतने में बहु ने जाकर रोहन के बापू को बुलाकर लाती हैं और बापूजी को सारा मामला मालूम पड़ता हैं. फिर बापूने रोहन को आपने कमरेमें बुलाकर पूछते हैं.
"रोहन मैं ये क्या सुन रहा हूँ"
"क्या हैं बापूजी"
"क्या तुमने बहु का आपरेशन करवया हैं ओ भी दो लड्कियोंपर"
"हाँ बापूजी"
"क्या तुम्हे लड़का नहीं चाहियें"
"आजकल लड़का या लड़की में कोई अंतर नहीं होता"
"मुझे मत सिखा"
अब बापूजी की  आंखे लाल हुयी थी वह कुछ सुननेके लायक   नहीं थे गुस्से में कुछ भी कदम उठा सकते थे उनके मुह से बहार आने वाले शब्द भी रुक  गए थे बापूजी ने गहरी सास ली और कहा.
":बेटा तुमने ऐसा क्यूँ किया"
"बापूजी यह मेरा ही फैसला था"
"तुम दूसरी शादी कर लो"
"नहीं मैं रेवती को धोका नहीं दे सकता"
"ठीक हैं तुम्हारा येही फैसला हैं तो मेरा फैसला भी सुनो  तुम्हे अगर मेरे जायदाद में का हिस्सा चाहिए तो मेरी बात तुम्हे माननी पड़ेगी"
"नहीं पिताजी मैं ऐसा नहीं कर सकता"
"ठीक हैं इसी समय सामान बंधो और निकलो, अब इस घर में तुम्हे कोई जगह नहीं"

 रोहन गुस्से से बहार आया सामान पैक करके रेवती और दो बेटियों के साथ घर से निकल पडा. रोहन मन ही मन सोचने लगा की उसका इस दुनिया में कोई भी नहीं और जिस गाँव में वह अपना बचपन गुजरा वही गाँव अब उसे पराया हो गया था.
(क्रमश:)

1 comment: